श्रीलंका के ख़िलाफ़ आख़िरी ओवर में लड़ाई पर उतरी बांग्लादेश टीम

6 months ago Newspadho 0

श्रीलंका में निदाहास ट्रॉफी खेली जा रही है जिसमे भारत बांग्लादेश और श्रीलंका की टीमें हिस्सा ले रही है । 16 मार्च को कोलंबो में श्रीलंका और बांग्लादेश के बिच मैच खेला गया जो की काफी रोमांचक रहा क्युकी श्रीलंका और बांग्लादेश में जो भी टीम मैच जीतती वो इंडिया के खिलाफ फाइनल खेलती । श्रीलंका ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 20 ओवर में 159 रन बनाये, बांग्लादेश जब बल्लेबाजी करने उतरी तो उनका ओपनर बल्लेबाज तमीम इक़बाल एक तरफ डटा रहा और दूसरी तरफ से लगातार विकेट गिरते रहे । तमीम के आउट होते ही महमुदुल्ला आया । अखीरी ओवर में बांग्लादेश को जितने के लिए 12 रन चाहिए थे । मुस्ताफ़िज़ुर बल्लेबाज़ी कर रहा था और सामने श्रीलंका के गेंदबाज़ ईसरु उडाना गेंदबाज़ी कर रहे थे । पहली गेंद शार्ट बॉलडाली गयी मुस्ताफ़िज़ुर ने उसे पुल्ल करने की कोशिश की लेकिन नहीं कर पाया और गेंद विकेटकीपर के हाथो में चली गयी । अगली बॉल पर मुस्तफिजुर रन आउट हो गया । रन आउट के दौरान ही श्रीलंका और बांग्लादेश के खिलाड़ियों के बिच कुछ कहा सुनी हो गयी और बांग्लादेश की तरफ से ड्रिंक लेकर आया हुवा खिलाडी उसने गेंदबाज़ से बदतमीज़ी शुरू कर दी उसके बाद स्थिति काबू से बहार जाती रही । बांग्लादेशी सीमारेखा से बहार आकर खड़े हो गए और उनका कप्तान शाकिब अल हसन अपने खिलाड़ियों को वापस बुलाने लगा एक वक़्त तो ऐसा भी आया अब ऐसा लगाने लगा की मैच आगे नहीं बढ़ेगा और श्रीलंका को विजेता घोषित कर दिया जायेगा और श्रीलंका को भारत के खिलाफ फाइनल खेलना होगा । लेकिन थोड़ी देर बाद मैच पुनः शुरू हुवा, अब बांग्लादेश को 4 गेंदों में 12 चाहिए था और महमुदुल्ला ने अगले 3 गेंदों में वो 12 रन बना लिया और बांग्लादेश मैच जीत गई । अब मैदान के बीचो बिच पूरी बांग्लादेश की टीम आ गयी और नाचने लगे । घमंड उसके सर पर सवार था ऐसा मालूम हो रहा था की वो श्रीलंका के खिलाड़ियों के साथ मारामारी कर लेंगे । श्रीलंका के खिलाड़ियों को चिढ़ाने लगे जो की ये किसी भी टीम के खिलाफ मैच जितने के बाद सामान्यतः करते है । श्रीलंका के खिलाड़ियों को उंगलिया दिखा रहे थे कई ख़िलाड़ी अपने साथी खिलाड़ियों को खींच रहा था की कही ये श्रीलंका के खिलाड़ियों के लड़ाई न कर ले ।

इस तरह की चीज़े हुई जो कभी खेल के मैदान पर नहीं होती है और न ही होनी चाहिए । बांग्लादेशी यही पर शांत नहीं हुए जब बांग्लादेश की टीम ड्रेसिंग रूम में गयी तो जश्न मानाने में इतनी ज्यादा बदतमीज़ी करी जैसे कुछ पागल कुत्ते आपस में लड़ते है वैसा माहौल बना दिया था चिल्ला चिल्ला कर और ड्रेसिंग रूम पे लगे हुए शीशे के गेट हो चकनाचुर कर दिया । एक सभ्य क्रिकेट टीम कभी जीत का जश्न ऐसे नहीं मानती ।

हालही में दुनिया के नंबर 1 टेस्ट क्रिकेट के गेंदबाज़ रबाड़ा को ICC ने 2 महीनो के लिए बन किया है । रबाड़ा अपने करियर के सर्वश्रेष्ठ फॉर्म में है फिर उन्हें ये बन झेलना पड़ रहा है क्युकी उन्हें ICC इन डिसिप्लिनरी एक्ट के तहत सजा सुनाई के क्युकी वो बल्लेबाज़ को आउट करने के बाद उन्हें इशारो से जाने को कहते थे, बुरे शब्द कहते थे और काफी आक्रामक हो जाते थे जिसकी वजह से ICC को यह फैसला लेना पड़ा । अच्छा प्रदर्शन करने का यह मतलब नहीं होता की इस तरह की बद्तमीज़िया की जाये । ऐसे में ICC को बांग्लादेश की पूरी क्रिकेट को बैन करना चाहिए ।इस पुरे वाकये में बांग्लादेश पे कप्तान ने काफी अहम् भूमिका निभाई । वो सीमा रेखा के बाहर आ गया और अपने खिलाड़ियों को समझने की बजाए उन्हें मैच छोड़कर वापस बुलाने लगा ।

अब देखना ये है के शेरो का झुण्ड बना हुवा बांग्लादेश नागिन बनकर भारत के खिलाफ खेलने उतरेगा ।