पूर्व प्रधानमंत्री श्री अटल बिहारी वाजपेयी का निधन से पूरा देश गमगीन

1 month ago Newspadho 0

ठन गई ठन गई, मौत से मेरी ठन गयी।

जूझने का मेरा इरादा न था , मोड़ पर मिलेंगे इसका वादा न था ।

रास्ता रोककर वह खड़ी हो गयी, यो लगा के ज़िन्दगी से बड़ी हो गयी।।

हार नहीं मानूंगा रार नई ठानूंगा
काल के कपाल पर लिखता ,  मिटाता हूं
गीत नया  गाता हूं
गीत नया गाता हूं !!!!

इन कविताओ के रचयिता देश के पूर्व प्रधानमंत्री और सबसे ज्यादा प्यार किये जाने वाले प्रधानमंत्री श्री अटल बिहारी वाजपेयी जी का 93 की आयु में निधन हो गया है । श्री वाजपेयी जी की तबियत काफी समय से नाजुक चल रही थी एम्स में भर्ती थे, काफी समय से लाइफ सपोर्ट पर चल रहे थे। अचानक खबर आई कि लाइफ सपोर्ट ने काम करना बंद कर दिया है और तबियत और नाजुक हो चली है। जिसके बाद पूरे देश मे दुवाओ का दौर चल पड़ा । कही यज्ञ किया जा रहा था तो कई लोग श्री अटल जी का हाल चाल लेने एम्स पहुचने लगे । चाहने वालो का तांता लगा रहा समय समय पर अपडेट आते रहे लेकिन ऊपर वाले को कुछ और ही मंजूर था ।

1996 बीजेपी सबसे बड़ी पार्टी बनी अटल जी बोले हम अपने पार्टी को गलत कभी नही करने देंगे और अटल जी बोले हम राजनीति छोड़ना चाहते लेकिन राजनीति हमे नही छोड़ती ।अटल जी ऐसे नेता थे जिनके पुरे देश में प्रशंसक थे , विरोधी भी उनके चाहने वाले थे जब अटल जी भाषण देते थे तो सुनने वाले मन्त्रमुघ्त हो जाते थे । कारगिल युद्ध के समय शेर की भाति अपने निर्णय में अटल रहने वाले वाजपेयी जी ने परमाणु परिक्षण के समय जब संयुक्त राष्ट्र ने भारत पर प्रतिबन्ध लगाया और गेंहू का निर्यात रोकने की धमकी देने पर श्री वाजपेयी जी ने कहा था हमारे देशवाशी एक समय भूखे रह लेंगे लेकिन हम परमाणु परिक्षण जरूर करेंगे । पूरी दुनिया दंग रह गयी जब अटल जी के शाशन ने भारत एक परमाणु संपन्न देश बन गया ।इसी तरह जब अटल जी कारगिल युद्ध के समय अमेरिका से जीपीएस की मांग की तब अमेरिका ने सीधे सीधे माना कर दिया तब इसी जिद पर भारत ने खुद का जीपीएस डेवेलोप करने का फैसला किया ।

भारतीय जनता पार्टी की आधारशीला रखने वालो में से एक में श्री अटल जी के नेतृत्व में पार्टी ने नहयी उचाईयो को हाशील किया । भारतीय जनता पार्टी की आधारशीला रखने वालो में से एक श्री अटल जी के नेतृत्व में पार्टी ने नयी उचाईयो को हाशील किया । भारतीय जनता पार्टी आज देश की शीर्ष पार्टी है जिसमे श्री अटल बिहारी वाजपेयी जी का प्रमुख योगदान है । विरोधी भी उनसे मुहबत करती थी ऐसे थे हमारे श्री अटल जी । 

अटल जी पिछले काफी समय से बीमार चल रहे थे कुछ महीने पहले उनकी हालत नाजुक स्थिति होने की वजह से उन्हें एम्म में भर्ती कराया गया था । अटल जी ने अपनी याददास्त खो दी थी याद रखने की क्षमता चली गयी थी । अटल जी राजनीती के महान धुरंधरों में से एक थे । अटल जी ने अपनी आखिरी साँस एम्स में ली । रिपोर्ट के मुताबिक अटल जी का निधन शाम 5 बज कर 5 मिनट पर हुआ । 11 जून को एम्स में भर्ती हुए थे अटल जी । सीने में जकड़न, किडनी ट्रैक्ट इन्फेक्शन और यूरिनरी ट्रैक्ट इन्फेक्शन की शिकायत थी । गुरुवार से ही वाजपेयी जी से मिलने वालो का ताँता लगा हुआ था । जानी मानी हस्तियों ने ट्वीट कर के शोक जताया है जिनमे पच्छिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी से लेकर बिहार के पूर्व मुखयमंती लालू प्रशाद यादव और प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी से लेकर फ़िल्मी जगत के सितारों ने दुःख व्यक्त किया है । एक बड़े युग का अंत हो गया है पूरा देश गम में डूबा हुआ है ।अटल बिहारी वाजपयी का पार्थिव शरीर सुबह 9 बजे ले जाया जायेगा BJP मुख्यालय, 1:30 बजे अंतिम यात्रा । राजघाट में स्मृति स्थल के करीब उनका अंतिम संस्कार किया जायेगा ।

प्रधानमंत्री ने ट्वीट करते हुए लिखा

00692481

श्री लालू प्रशाद यादव ने शोक व्यक्त करते हुए लिखा